हमे जानें
संपर्क करें
हमे जानें

दिल्ली सहकारी सोसायटी अधिनियम, 1972 के अंतर्गत लेफ्टीनेंट गर्वनर दिल्ली द्वारा पंजीयक और सहकारी समितियाँ नियुक्त की जाती हैं।
दिल्ली सहकारी सोसायटी अधिनियम, 1972 के अन्तर्गत, दिल्ली के लेफ्टिनेंट गवर्नर द्वारा नियुक्त पंजीयक और सहकारी समितियाँ सहकारी विभाग द्वारा संचालित की जाती हैं। यह अधिनियम के अंतर्गत पंजीकृत सहकारी समितियों के कामकाज की निगरानी में निर्णायक भूमिका अदा करता है। लेफ्टिनेंट गवर्नर, रजिस्ट्रार की सहायता के लिए अन्य व्यक्तियों की भी नियुक्ति करते हैं और उन्हे संयुक्त रजिस्ट्रार, उप पंजीयक, सहायक रजिस्ट्रार और अन्य क्षेत्र/ अनुसचिवीय कर्मचारी का पदनाम देते हैं।
रजिस्ट्रार का कार्यालय, नौ जिलों के पैटर्न पर काम कर रहा है और सहायक रजिस्ट्रार स्तर के अधिकारियों द्वारा नौ जोन नेतृत्व करता है। प्रत्येक जोन विभिन्न सहकारी समितियों के उस विशेष क्षेत्र में स्थित अपने पंजीकृत कार्यालय के आधार पर मामले सुलझाता है। विशेष रुप से समाज संबंधित सभी मुद्दों की जांच क्षेत्रीय स्तर पर की जाती है।

संगठनात्मक चार्ट

शिकायतों से निपटने के तरीके :

जब सहकारी विभाग में एक शिकायत प्राप्त होती है, इसकी जांच संबंधित शाखा/ अनुभाग में की जाती है। यदि जरूरत हो, टिप्पणियाँ के लिए संबंधित समाज के अधिकारी/ गैर सरकारी अधिकारी को बुलाया जाता है। परीक्षण के बाद, यदि आवश्यक हो तो यू /एस 54 या 56, यू /एस 54 या अधिभार कार्यवाही यू /एस 59 जांच का आदेश रजिस्ट्रार द्वारा दिया जाता है। यदि शिकायत धारा 60/61 के दायरे के भीतर आती है, शिकायतकर्ता को फाइल करने के लिए तदनुसार सलाह दी जाती है।

आवेदन/ संदर्भ के निपटान के समय अनुसूची :

1 नयी सहकारी समिति के पंजीकरण का प्रस्ताव की स्वीकृति 30 दिन
2 अलविदा ससुराल में संशोधन 60 दिन
3 समाज की अधिकतम ऋण सीमा 90 दिन
4 हाउसिंग/ ग्रुप हाउसिंग सोसायटी के सदस्यों के इस्तीफों और पंजीकरण की स्वीकृति 60 दिन
5 अन्य (विविध मामलों) 60 दिन

राज्य और केन्द्र प्रायोजित योजनाएं के तहत वित्तीय सहायता

पंजीकृत सहकारिता सोसायटी की गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए, सहकारी विभाग प्रचलित क्षेत्रों जैसेकि महिला कल्याण, अनुसूचित जाति/ अनुसूचित जनजाति, बचत और क्रेडिट सोसायटी, प्राथमिक सहकारी भंडार, के संबंध में, कई योजनाएं तैयार चुका है। निम्नलिखित राज्य योजनाएं और केन्द्र प्रायोजित योजनाएं के अन्तर्गत योग्य समाज को वित्तीय सहायता दी जाती है:

  • राज्य प्रायोजित योजनाऐं

    1. सहकारी बाजार का आयोजन

    2. अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के सदस्यों के लिए उपभोग ऋण

    3. चमड़ा सहकारिता के लिए बाजार विकास सहायता

    4. महिला सहकारी समितियों को वित्तीय सहायता

    5. श्रम और निर्माण सहकारिता के लिए वित्तीय सहायता

  • केन्द्र प्रायोजित योजनाएं

    1. सोसाइटी के कमजोर वर्गों के लिए सहायता

    2. अनुसूचित जाति/ अनुसूचित जनजाति के लिए विशेष योजनाऐं

    3. किसान क्रेडिट कार्ड योजनाएं

    4. राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम के माध्यम से वित्तीय सहायता प्राप्त करने के सहकारी क्षेत्र में कोल्ड स्टोरेज का निर्माण

    5. सहकारी उत्कृष्टता के लिए पुरस्कार
Latest News
 
Application invited for post of Assistant Public Prosecutors
Automated System of Allotment Govt. of Delhi (e-Awas)
Delhi Budget 2017_18
Discontinuation of physical printing of Government of India Gazettes
Draft Delhi Road Safety Policy
Empanelment of Ms ICSIL for hiring of contractual manpower
Extention of date Application for the post of Other Persons Members for Lok Adalats
Guidelines for Modal RFP Documents
Inviting Nominations Last Day 14 Mar 16
List of Affidavits
 
स्थानीय सेवाएँ
 
प्रतिक्रिया दें
शिकायतें
 
Last Updated : 23 Mar,2014